देश में कोरोना वायरस से संक्रमण के केस लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। पहले देश ने कोरोना वायरस के पहली लहर को झेला। उसके बाद दूसरी लहर आ गयी। दूसरी लहर ने काफ़ी जन हानि की है। देश के अधिकतर राज्यों में राज्य सरकारों ने आंशिक लॉकडाउन घोषित कर दिया है। यह एक तरह का कोरोना कर्फ़्यू ही होता है। हालाँकि देश में नॉर्मल काम-काज काफी हद तक शुरु हो गया है लेकिन साथ में कोरोना की चिंता भी बनी ही हुई है। लोग घर के बाहर तो बेफिक्र से नजर आता हैं लेकिन जब कोरोना से बचने के नुस्खों की बात आती है तो उसमें अति देखने को मिल रही है। लोगों का अंदाज कुछ ऐसा हो चला है कि बाहर मस्त घूमो और उपाय डबल कर लो। इसी चक्कर में लोग सुबह शाम पेट भर कर काढ़ा पी रहे हैं तो दिन में कई बार हल्दी वाले दूध का दौर चल जाता है।

आज हम मोबाइल साथी डॉट कॉम के लेख में कोरोना से बचाव हेतु कुछ घरेलू देशी नुस्ख़े बताने जा रहे हैं जो आपके शरीर में इम्यून सिस्टम को और मज़बूत बनाएगा। ये घरेलू नुस्ख़े कोविड 19 के वायरस का संक्रमण से आपको बचाएँगे।

कोविड इम्यूनिटी बूस्टर काढ़ा व कोरोना के बचाव हेतु देशी नुस्खे | How to make Covid immunity booster kadha in hindi


आज हम आपको कोरोना महामारी से बचाव हेतु कुछ देशी नुस्खे बताने जा रहे हैं। वैसे भी अभी ओफिसियल रूप से कोरोना की कोई दवा नही है। अभी तक सिर्फ़ लक्षणो के आधार पर ही इलाज किया जा रहा है। आयुर्वेद में भी कोरोना महमारी का कोई इलाज नही है। यह बात पतंजलि योग पीठ के स्वामी रामदेव ने भी स्वीकारी है। जब उनकी कोरोनिल दवा पर सोशल मीडिया पर विरोध हुआ था। यह बताया गया कि आयुर्वेद की दवा कोरोनिल एक इम्यूनिटी बूस्टर है। जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।

लोग नीम, तुलसी, गिलोय जैसी आर्युवेदिक औषधियों की बाजार में भरमार है और लोग इनका सेवन नाश्ते की तरह कर रहे हैं। यही हाल विटामिन और जिंक की गोलियों का भी है। नतीजा ये हो रहा है कि कोरोना तो एक तरफ गया लोगों को दूसरी तरह की दिक्कतें होने लगी है । इसलिए घरेलु उपाय करें लेकिन संतुलन न बिगाड़े। अति से आफत जानकारों का कहना है कि कोरोना में घरेलू उपायों की अति नुकसानदायक हो सकती है। लोग दिन में कई बार मासालों का काढ़ा पी रहे हैं। लोग हल्दी वाले दूध की ज्यादा मात्रा ले रहे हैं। गिलोय, तुलसी, नीम का तय मात्रा से ज्यादा सेवन किया जा रहा है। विटामिन की गोलियों की जरूरत से ज्यादा मात्रा ली जा रही है। विटामिन सी के लिए नींबू का भी ज्यादा उपयोग हो रहा है।

ज्यादा काढ़ा पीने से क्या होती है दिक्कत ? -

ज्यादा काढ़ा पीने से पेट में जलन होती है। अधिक मसालों से एसिडिटी की समस्या हो सकती है। कई लोगों को पेट में अल्सर की शिकायत रहती है। अति करने से गले में रुखापन और खांसी की शिकायत हो सकती है। ज्यादा काढ़ा पीने से कई लोगों में चिड़चिड़ापन और मूड स्विंग भी हो सकता है। सिरदर्द, डलनेस, भारीपन की शिकायत हो सकती है। ज्यादा जड़ी बूटी का नुकसान - चक्कर आना । - आंखों के आगे अंधेरा होना । - नाक से खून आना । - पेट में जलन रहना । - मुंह में छाले हो जाना । - पेशाब में जलन । - कब्ज या दस्त की समस्या । - स्किन पर दाने आना । - गैस या अपच की शिकायत । - अचानक से वजन घटना ।

क्या बरतें सावधानी -

- कफ, वात, पित्त का ध्यान रखें । - गर्म तासीर का संतुलन जरूरी । - ठंडी तासीर वाली चीजें ज्यादा लें । - काढ़ा बनाने के तरीके की सही जानकारी लें । - विश्वसनीय दुकानों से ही औषधियां खरीदें । - अदरक,सोंठ, दालचीनी, काली मिर्च का सीमित सेवन । - शरीर में कोई बदलाव तो डॉक्टर से मिलें । - परेशानी होने पर काढ़े कम करते जाएं । - दिन में एक से ज्यादा बार काढ़ा ना लें ।

इम्यूनिटी वर्धक गिलोय के फायदे -

गिलोय इम्यूनिटी बढ़ाती है। इससे क्रोनिक बुखार ठीक होता है। गिलोय पाचनशक्ति भी मजबूत करती है। ये अस्थमा और डायबिटीज को में रखती है। गिलोय मानसिक मजबूती भी बढ़ाता है।

गिलोय का काढ़ा बनाने का सही तरीका -

गिलोय का काढ़ा बनाने के लिए सबसे पहले दो से तीन कप पानी गर्म करें। गर्म पानी में आधा छोटा चम्मच हल्दी पाउडर व आधा छोटा चम्मच काली मिर्च डालें। इसके बाद एक चम्मच गिलोय पाउडर व गिलोय की 2 से 3 पत्तियां, अदरक, दालचीनी का एक टुकड़ा डालें। फिर 5-6 पुदीने की पत्तियां डालें। सबसे बाद में आधा छोटा चम्मच शहद डालें भी डालें।शहद की मात्रा अपने स्वाद के अनुसार थोड़ा बढ़ा भी सकते हैं।

कोरोना के घरेलू नुस्खे

कोरोना से बचाव हेतु शरीर में रोग प्रतिरोधक का विकास करने के लिए इम्यूनिटी काढ़ा पिएँ। कोविड इम्यूनिटी बूस्टर काढ़ा तुलसी, अदरक, गुड़, सोंठ, गोल मिर्च, यानी काली मिर्च से बनता है। रात में सोने से पहले हल्दी दूध का सेवन करें। अगर गले में खरास महसूस हो तो गुनगुना पानी का सेवन करें। कोशिश करें कि अधिक से अधिक हर्बल चाय का सेवन हो । ताजा और गर्म खाना खाएं।ठंडा, फ्राइड फास्ट फूड से बचें। हमेशा कम और जल्द पचने वाला खाना खाएं। घबराएँ बिलकुल भी नही, खूब अच्छी नींद लें।

आयुष मंत्रालय के सुझाव -

गुडूची 500-1000mg तक लें। तुलसी का काढ़ा उपयोग में लाएं। आंवला या आंवला केंडी का सेवन करें। हरिद्रा, अदरक गर्म पानी के साथ लें। अश्वगन्धा 3-5mg तक दिन में दो बार लें। च्यवनप्राश-10-12 ग्राम / 1 चम्मच लें। गर्म पानी के साथ शहद लें। कोरोना काल में अगर सर्दी खांसी या जुकाम के जरा भी लक्षण दिखें, तो जल्द से जल्द घरेलू उपाय अपना लें। फास्ट रिकवरी में घरेलू नुस्खे आपकी बहुत मदद करेंगे।

भारत में कोरोना की लहर एक बार फिर लौट रही है। वैसे तो लोगों को कोरोना वैक्सीन लगना शुरू हो गई हैं। लेकिन आपका नंबर कब आए, कुछ पता नहीं। टीकाकरण होने में समय लग सकता है। ऐसे में अगर आपको कोरोना के कुछ हल्के लक्षण नजर आएं, तो डॉक्टर के पास जाने के बजाए घर में रहकर ही उपाय करना बेहतर है। वैक्सीन आने के बाद बेशक लोग कोरोना को लेकर बेखौफ हो गए हैं, लेकिन सच तो ये है कि लोगों में अब भी बुखार, खांसी और जुकाम कोरोना वायरस से जुड़े ये आम लक्षण देखने को मिल रहे हैं। ऐसे में घरेलू उपचार आजमाने चाहिए। इन उपचारों की मदद से प्रतिरक्षा प्रणाली तो मजबूत होगी ही साथ ही रिकवरी भी तेजी से होना शुरू हो जाएगी। आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. रेखा राधामोनी ने हल्के COVID-19 के लक्षणों को ठीक करने के लिए आयुर्वेदिक टिप्‍स बताए हैं। डॉक्टर्स का सुझाव है कि अगर किसी व्यक्ति को हल्का सा जुकाम, खांसी और बुखार महसूस हो, तो तुरंत काढ़ा पीना शुरू कर दें। काढ़ा बनाने के लिए थोड़े से पानी में अदरक के टुकड़े डालें और इन्हें तब तक उबालें जब तक की इसकी मात्रा आधी न रह जाए। फिर इसमें तुलसी के कुछ पत्ते डालें और इस मिश्रण को दिन में तीन से चार बार जरूर पिएं।

सर्दी, खांसी या थकावट महसूस होने पर हमेशा ताजा पका हुआ गर्म भोजन ही करें। लंच में बिना नमक और तेल के मूंग की दाल का सूप शामिल करें।

जरूरत से ज्यादा भोजन न करें। हर मील के बाद पेट को आधा खाली छोड़ दें। कोरोना के लक्षण से बचने के लिए संभव हो तो शाम 7 बजे से पहले भोजन कर लेना चाहिए। इससे रिकवरी फास्ट होती है।हर घर की किचन में रखे भारतीय मसाले किसी न किसी बीमारी का बेहतरीन इलाज हैं।आयुर्वेदिक गुणों के चलते इनमें कोरोना के हल्के लक्षणों को दूर करने की भारी क्षमता है। ऐसे में अगर कभी आपको बुखार, थकान, सर्दी ,खांसी हो जाए, तो बिना सोचे अपने भोजन में दालचीनी, काली मिर्च, इलायची और लौंग जैसे मसाले शामिल करें। भोजन में हल्दी पाउडर और अदरक मिलाकर खाने से भी बहुत आराम मिलेगा। जुकाम, खांसी होगी , तो जल्दी दूर हो जाएगी।अच्छी नींद लेना कोरोना के लक्षणों को दूर भगाने का बेहतरीन घरेलू उपाय है। आप जितनी अच्छी नींद लेंगे, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होगी और आप तंदरूस्त बने रहेंगे। इसलिए रात में पूरे आठ घंटे की नींद लें। दिन में नींद न लेने की आदत डालें।हल्का सा सर्दी जुखाम होने पर सब्जियां खाना शुरू कर दें। ध्यान रखें, सब्जियां अच्छी तरह से पकी होनी चाहिए। कच्चा सलाद और सब्जियों से परहेज करें। करेले, लॉकी का सेवन जरूर करें।

इस दौरान कुछ दिनों तक बैंगन, टमाटर, आलू का सेवन जितना कम करेंगे, उतनी जल्दी इसके लक्षणों से निजात पाने में मदद मिलेगी।अगर लगे कि आपको कोरोना के लक्षण हैं, तो अपना ध्यान दूसरी तरफ बटाएं। लोगों से बात करें, किताब पढ़ें, संगीत सुनें और कुछ ऐसा करें, जिससे आपको आराम और स्वस्थ महसूस करने में मदद मिले। हो सके, तो अपनी दिनचर्या में ध्यान शामिल करें। धूम्रपान और शराब से बचे रहें। कोरोना से लडऩे में आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी बहुत मददगार हैं। विशेषज्ञ कहते हैं कि यदि आपको खांसी है, तो काली मिर्च पाउडर के साथ शहद की एक बड़ी चम्मच दिन में तीन से चार बार लें। राहत मिलेगी। अगर आपको गले में जलन होती है तो दिन में कई बार व्योषादि वटाक चबाएं।

इसके अलावा गले में दर्द और जमाव के लिए गर्म पानी से गरारे करें। इसमें नमक और हल्दी पाउडर मिलाएं तो ये ज्यादा असरदार साबित होगा। यहां बताए गए छोटे-छोटे घरेलू उपाय कोरोना के हल्के फुल्के लक्षणों को दूर करने में मददगार साबित होंगे। लेकिन गंभीर मामलों में केवल इन उपायों के भरोसे ना रहें, तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

मोबाइल साथी की टीम को पूरी उम्मीद है कि यह लेख कोविड इम्यूनिटी बूस्टर काढ़ा व कोरोना के बचाव हेतु देशी नुस्खे | How to make Covid immunity booster kadha in hindi आपके लिए बेहद उपयोगी साबित होगा। इस लेख को सोशल मीडिया को अधिक से अधिक साझा करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की मदद हो सके।

Previous Post Next Post