एटीएम क्या है  - What is ATM ?

atm card security tips बताने से पहले आप पहले जान लीजिए कि atm machine kya hai और atm machine kaise work karti hai. एटीएम मशीन को हिंदी में स्वचालित गणक मशीन कहते हैं । और अंग्रेज़ी में automated teller machine कहा जाता है । इसे हाई संक्षिप्त रूप में ATM कहा जाता है ।


हमारे देश में हम इसे एटीएम कहते हैं । इसके अलावा यूरोप,व अमेरिका व रूस जैसे देशों में एटीएम को automatic banking machine, cash machine, cash point, hole in a wall, bankomat आदि नाम से जाना जाता है । एटीएम हमारे जीवन शैली का एक अटूट हिस्सा बन गया है ।
वास्तव में एटीएम कंप्यूटरीकृत एक ऐसी मशीन है जो दूरसंचार (internet) के माध्यम से पैसों के  लेन-देन की सुविधा प्रदान करता है । एटीएम के इतिहास के बारे में बात करें, तो आधुनिक एटीएम लंदन स्थित बार्केल बैंक ने 27 जून 1967 में प्रयोग किया गया ।

 एटीएम क्या है, एटीएम हैकिंग करने का तरीक़ा ये अपनाते हैं हैकर्स | How to Hack ATM by Hackers

 
आज मोबाइल साथी डॉट काम में हम क्या है एटीएम ? एटीएम कार्ड कैसे हैक करते हैं हैकर्स (what is atm and how hack atm card in hidni) के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं ।

हैकर्स के एटीएम कार्ड हैक करने का तरीका - How to hack ATM card of hackers

Hackers change atm to another atm -

एटीएम कार्ड को बदलकर - इसमें हैकर्स बड़ी चालाकी से आपका atm password देख लेता है। और फिर किसी तरह आपका एटीएम अपने atm से बदल लेता है। और आपके atm से मनमानी धनराशि निकाल लेते  हैं इस तरह की ठगी के शिकार अधिकतर बुजुर्ग नए नए एटीएम धारी ही होते है यह atm से ठगी का बहुत पुराना प्रचलित तरीक़ा है।


Atm machine की cancil बटन को जाम करके - 

यह भी atm से ठगी का पुराना तरीक़ा है। हैकर्स किसी  machine में जाकर cancil की button को फेवीक्विक लगाकर जाम कर देते हैं। जिससे दबाने पर cancil का बटन काम नही करता है। जब कोई उस एटीएम पर जाता है। अपना atm card डालकर atm pin एंटर कर पैसे निकालने की प्रोसेस कंप्लीट करत है। इसके बाद cancil की button दबाता है। ताकि transaction cancel हो जाए। अब फेवीक्विक लगे होने के कारण transaction cancil नही होता और फिर उस व्यक्ति के जाने बाद hackers processing के दौरान "YES"  का बटन दबाकर एटीएम से पैसे निकाल लेते हैं।

bank में झूठी complain करके पैसे निकालना -

इस तरीक़े में हैकर्स आम इंसान के जैसे   atm machine जाता है। और atm मशीन में पैसे निकालने की प्रक्रिया पूरी करता है। और जैसे atm machine से पैसे बाहर निकलते हैं। एक नोट छोड़कर हैकर्स सारे पैसे निकाल लेता है। अब एक नोट निकलने के कारण मशीन transaction incomplete बता देती है।
अब हैकर्स बैंक जाते है और वहाँ पर एक कम्प्लेन रजिस्टर करते हैं। कि atm मशीन से पैसे नही निकले और खाते से पैसे विड्रा हो हैं। बैंक द्वारा फिर उनके खाते में निकाली हुई रक़म क्रेडिट कर दी जाती है।

ATM  Machine को हैंग कर ठगी -

साथियों एटीएम मशीन में मॉनिटर स्क्रीन के दाहिनी तरफ़ चार बटन बायीं तरफ़ चार बटन होते हैं पैसा निकालने के दौरान अधिकतर दाहिनी ओर लगे चार बटनों का हाई इस्तेमाल होता है। अब जब आप एटीएम से पैसा निकाल रहे होते हैं। तभी बड़ी सावधानी से हैकर्स एटीएम मशीन पर बाएँ ओर लगी बटनों को दबा देते हैं इस तरह वो 3 से 4 बार बटन को दबाते हैं। अब ऐसा करने से मशीन हैंग हो जाती है। और कोई भी बटन दबाने पर मशीन कोई response नही करती है। फिर आपके पीछे खड़ा हैकर्स निवेदन के साथ कहता है सर अगर आपका पैसा नही निकल रहा हो तो प्लीज़ मुझे ही पैसे निकाल लेने दीजिए, मुझे बहुत जल्दी है। और आप किनारे हो जाते हैं। वह बड़ी होशियारी से अपना atm card atm machine के स्लॉट में आधा डालता है और निकाल लेता है। मशीन सही से काम करने लगती है। हैकर्स मशीन में save आपके password से पैसा निकाल लेते हैं।

visual connection को हैक करके -

Atm machine में जो कैमरे लगे होते हैं वह इंटरनेट प्रोटोकाल के ज़रिए काम करते हैं। मतलब ये कि वह भी IP address पर काम करते हैं। इसके अलावा ये कई कंप्यूटर से आपस में inter connected भी होते हैं। भारतीय स्टेट बैंक सहित कई बैंकों में इन कैमरों का access उन्ही के पास होता है। हैकर्स इन कैमरों को IP address  से हैक कर लेते हैं। फिर atm machine के अंदर पैसे निकालने जो भी आता है। Atm number , pin, आदि सब बैठे बैठे पता लगा लेते हैं। और लोगों को इसका शिकार बनते हैं।

atm machine hacking device या  keylogger जैसे hardware को atm machine में फ़िट करके

एटीएम हैकिंग कैसे करते हैं साइबर अटैकर्स (atm card security tips)
एटीएम मशीन के जिस स्लॉट में आप अपना डालते हैं उसके पहले अटैचमेंट key logger hardware हैकर्स वहाँ पर फ़िट कर देते हैं। जब कोई कीलोगर वाले एटीएम में अपना atm card डालता है। एटीएम से जुड़ी सारी जानकारी हैकर्स को key logger send देता है। Atm के पीछे बनी black strip क्लोन हो जाती है। इस तरह आप अजजाने में हैकर्स का शिकार हो जाते हैं।

कमजोर insecure operating system के द्वारा हैकिंग -

अधिकतर atm मशीन window xp ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम कर रहे हैं। जबकि microsoft ने window xp बंद कर दिया है इसलिए इस पर security update भी microsoft नही देता। ऐसे में हैकर्स window xp कमजोरी का पता लगाकर atm hack कर लेते हैं।

tyupkin के ज़रिए atm की हैकिंग -

यह एक malware है इसके script को bootable cd के ज़रिए atm machine पर डाला जाता है। Atm machine इसके बाद बूट होती है। फिर यह हैकर्स के इशारों पर काम करने लगती है। tyupkin malware के ज़रिए भारत सहित अमेरिका, चाइना,इज़राइल, फ़्रांस आदि देशों में बहुत ठगी होती है। ये देश  hacking की इस समस्या से जूझ रहे हैं।

atm card hacking से बचने के उपाय -

  • अपने atm card से जुड़ी जानकारी किसी के साथ share ना करें
  • यदि फ़ोन पर कोई चाहे वह बैंक का कर्मचारी/अधिकारी क्यों ना हो, खाते से जुड़ी जानकारी माँगे तो बिलकुल ना दें ।
  • एटीएम मशीन के अंदर जब कोई ना हो तभी पैसे निकालें ।
  • हमेशा बैंक के अंदर स्थित atm का ही पैसे निकालने में उपयोग करें , ये secure होते हैं ।
  • अपना password एक निश्चित अंतराल पर बदलते रहें ।
  • अगर आप internet banking का user हैं । तो cyber cafe में internet banking access ना करें ।
  • अगर आप अपने laptop कर netbanking access कर रहे हैं तो आपका laptop पर updated anti virus व web protection system activate होना चाहिए ।
  • atm machine से पैसे निकालते समय कोई समस्या है तो security gaurd से help लें । बाहरी किसी भी व्यक्ति से  मदद ना लें ।
  • atm card का passsword एटीएम कार्ड के पीछे ना लिखें ।
  • mobile पर netbanking access कर करते हों, तो बैंक के अधिकारिक netbanking app को ही उपयोग करें ।
  • google play store पर बहुत से fake banking app हैं । ऐसे apps से बचें । बैंक की अधिकारिक वेबसाइट से आप app download करें ।
Previous Post Next Post